मनरेगा पर कोरोड़ो रूपये के घोटाले का आरोप, रालोद ने उठाई जांच की मांग


 सुशील कुमार पर हमेशा लगता रहा है घोटालो बाजों को संरक्षण देने का अरोप

अगर जांच हुई तो गर्दिश में आ सकते है श्री श्रीवास्तव के सितारे

सुमन शुक्ला की रिपोर्ट 

सीतापुर । उपायुक्त श्रम रोजगार मनरेगा अधिकारी सुशील कुमार श्रीवास्तव व खण्ड विकास अधिकारी हरगांव व महोली खण्ड विकास अधिकारी राजकुमार व खण्ड विकास अधिकारी बेहटा व सकरन व परसेन्डी में तैनात खण्ड विकास अधिकारी संन्दीप कुमार तिवारी खण्ड विकास अधिकारी लहरपुर अखिलेश चैबे  व खण्ड विकास अधिकारी अशोक कुमार चैरसिया रामपुर मथुरा और  ने मिली भगत करके  मनरेगा योजना अन्तर्गत वाल पेन्टिग कराने के नाम पर विजय कुमार एन्ड कम्पनी बहराईच को  लगभग एक करोड़ रूपया निकाला कर बन्दर बांट किया गया है जबकि जनपद के कंई खण्ड विकास अधिकारियों ने वाल पेन्टिग नहीं और न ही भुगतान किया गया है  जबकि उपायुक्त श्रम रोजगार मनरेगा अधिकारी सुशील कुमार श्रीवास्तव स्वमं पहला में खण्ड विकास अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं लेकिन उन्होंने वाल पेन्टिग नहीं कराया गया है जिससे यह सिद्ध होता हैं कि उपरोक्त विकास खण्ड अधिकारी  हरगांव महोली  लहरपुर बेहटा सकरन और रामपुर मथुरा के खण्ड विकास अधिकारियों को न प्रशासन का डर है और   ही सरकार का कोई डर है उनको पंचायत चुनाव और कोविड 19 के समय मनरेगा मजदूरों और प्रवासी मजदूरों की चिन्ता नहीं थी  उनको केवल घोटाला करने के लिये लगकर मनरेगा कन्टीजेन्सी से ही करोड़ों रूपयों का भुगतान वाल पेन्टिग  के नाम पर  बगैर टेन्डर कराये ही विजय कुमार एन्ड कम्पनी बहराईच को भुगतान कर दिया गया है  जबकि उत्तर प्रदेश सरकार व आयुक्त ग्राम्य विकास विभाग  और मनरेगा शासनादेश में लिखा है कि एक लाख रूपये के ऊपर तभी भुगतान किया जाये जब टेन्डर किया गया हो  लेकिन उपरोक्त खण्ड विकास अधिकारियों को न अपने अधिकारियों के निर्दैश का डर रहा जिस कारण उन्होंने अपने विकास खण्ड से लगभग सात लाख रूपयों से लेकर दस लाख रूपयों तक  का भुगतान विजय कुमार एन्ड कम्पनी बहराईच को कर दिया गया है अब सोचने वाली बात यह है कि यह फर्म जनपद सीतापुर में आईं कैसे जबकि टेन्डर भी नहीं किया गया है यह फर्म उपायुक्त श्रम रोजगार मनरेगा योजना सुशील कुमार श्रीवास्तव  जो जनपद बहराईच में खण्ड विकास अधिकारी के पद पर पूर्व  में कार्यरत थे और बर्तमान में   जनपद सीतापुर उपायुक्त श्रम रोजगार मनरेगा अधिकारी होकर आये थे जिससे यह सिद्ध होता हैं कि उन्होंने ही विजय कुमार एन्ड कम्पनी बहराईच को जनपद सीतापुर मनरेगा योजना अन्तर्गत वाल पेन्टिग कार्य दिया गया था और   विजय कुमार एन्ड कम्पनी बहराईच को मनरेगा योजना की कन्टीजेन्सी से केवल करोड़ों का भुगतान  कराकर बन्दर बांट किया गया है महोदय आपसे आग्रह है कि जनपद सीतापुर में कराये गये मनरेगा योजना अन्तर्गत वाल पेन्टिग कार्य की अस्थली जांच कराई जाए और जो बगैर टेन्डर के करोड़ों का रूपयों  भुगतान  किया गया है उसकी जांच किसी जांच एजेंसी से निष्पक्ष जांच कराई जाए और दोषी अधिकारियों पर कठोर कार्यवाही की जाये अन्यथा की स्थिति में राष्ट्रीय लोकदल सीतापुर द्वारा विशाल धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी जिला प्रशासन सीतापुर की होगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक