सरकारी ठेके में बन रही थी नकली शराब

 


उत्तर प्रदेश के सीतापुर में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। यहां मुखबिर की सूचना पर पुलिस और आबकारी विभाग की टीम ने दो शराब माफियाओं को गिरफ्तार किया है। आरोपी लाइसेंसी शराब की दुकान में नकली शराब बनाकर तस्करी करता था। पुलिस ने छापेमारी कर आरोपियों को हिरासत में लिया है। इसी के साथ शराब की दुकान और एक आरोपी के घर से भारी मात्रा में शराब बनाने का सामान बरामद हुआ है। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है। पुलिस की कार्यवाही से अन्य शराब माफिया भी खौफ में है।

मुखबिर की सूचना पर हुई कार्यवाही
मामला सीतापुर के तालगांव थाना क्षेत्र के गुरेपारा कस्बे का है। जहां लखनऊ निवासी शुभम जायसवाल का देशी शराब का सरकारी ठेका है। जिसके बारे में पुलिस को मुखबिर ने बताया कि वहां भारी मात्रा में नकली शराब का कारोबार होता है। जिसके बाद पुलिस और आबकारी विभाग की संयुक्त टीम ने दुकान और दुकान के एक कर्मचारी के घर पर छापा मारा। जहां से पुलिस ने कुल 971 लीटर अवैध शराब, 4833 शीशियां,100 नकली क्यू आर कोड, 20 नकली ढक्कन और 2950 नकली रैपर बरामद किए। इसके साथ ही दुकान मालिक और कर्मचारी प्रमोद कुमार भार्गव को मौके से गिरफ्तार किया है। पकड़ी गई शराब की कीमत दस लाख रुपए बताई जा रही है।

पुलिस कर रही ठेके के लाइसेंस निलम्बन की कार्यवाई
सीओ यादवेन्द्र यादव का कहना है कि अब लाइसेंस निलम्बन और निरस्तीकरण की कार्यवाई चल रही है। साथ ही गिरोह के अन्य सदस्यों का भी पता लगाया जा रहा है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। पता लगाया जा रहा है कि उनके पास नकली शराब बनाने का सामान कहां से आता है।

अलीगढ़ में 100 लोगों की नकली शराब पीने से हुई है मौत
गौरतलब है कि मई-जून के महीने में केवल अलीगढ़ में 100 लोगों की नकली शराब पीने से मौत हुई है। मौतों का यह आकड़ा सामने आने के बाद सूबे पुलिस की हरकत में आ गई। शराब माफियाओं पर नकेल कसने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव