किसानों ने किया गोमती नदी में जल सत्याग्रह

 


पोल्ट्री फार्म से क्षेत्र में बढ़ रही मक्खियों के प्रकोप को लेकर जलसत्याग्रह

-मक्खियों के प्रकोप से दर्जनों गाँव चपेट में
-मच्छरदानी लगाकर खाना बनाने व खाने को विवश ग्रामीण
-ग्रामीणों ने कई बार की शिकायत लेकिन नही हो पा रही कार्यवाई
-भाकियू अवध के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में जल सत्याग्रह
हरदोई।चपरतला स्थित बरनाला पोल्ट्री फार्म के द्वारा क्षेत्र में बढ़ रही मक्खियों के प्रकोप से दर्जनों गाँव चपेट में है।ऐसे में तमाम समस्याओं को लेकर भाकियू अवध के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में किसान नेताओं ने जल सत्याग्रह किया।किसान नेताओं के इस जल सत्याग्रह से प्रशासन में हड़कंप मच गया।
   पोल्ट्री फार्म के द्वारा क्षेत्र में बढ़ रही मक्खियों के प्रकोप से आसपास के गांवों के लोगों का खाना जीना दुस्वार हो गया है।ग्रामीण मच्छरदानी लगाकर खाना बनाने व खाने को बिवस है। इस समस्या को लेकर पूर्व में भी ग्रामीणों के द्वारा कई बार प्रदर्शन किया जा चुका है परंतु प्रसासन के ढुलमूल रवैया व पोल्ट्री फार्म मालिक की तानाशाही के आगे ग्रामीणों की नही सुनी जाती है।इस समस्या को लेकर दर्जनों गांवों के ग्रामीणों ने भाकियू अवध के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष श्यामू शुक्ल से निजात दिलाने के लिए गुहार लगाई थी। समस्या को सुनकर किसान नेता ने प्रसासन को नोटिस भेज कर समस्या से अवगत कराते हुए कहा था कि यदि एक सप्ताह में निराकरण न हुवा तो संगठन जतनगंज पुल गोमती नदी में किसानों के साथ अनिश्चित कालीन जल सत्याग्रह करेगा।उसी क्रम में जब समस्या से निजात नही दिलाई तो सभी इक्कट्ठा होकर जल सत्याग्रह करने लगे जिसको देखते हुए पिहानी व मैंगलगंज कोतवाली का फोर्स तैनात कर दिया गया।
     किसानों को संबोधित करते हुए किसान नेता श्यामू शुक्ला व मयंक चौहान ने एक स्वर में कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नही होंगी तब यह सत्याग्रह चलता रहेगा।संगठन की तीन प्रमुख मांगे है बरनाला पोल्ट्री फार्म के द्वारा पनप रही मक्खियों से निजात दिलाना क्षेत्र के आवरा गौवंशो को गौ शाला भिजवाया जाए जनपद की गोला पलिया खम्भारखेड़ा चीनी मिलों के द्वारा जो गन्ने का भुगतान रोंका गया है उसको तत्काल दिलाया जाए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक