विद्युत विभाग में 111 फर्जी कर्मचारी, सरकार को लगा रहे हर माह 14 लाख का चूना

 


बेसिल का सुपरवाइजर,जेई-एसडीओ के साथ मिलकर कर रहा फर्जीवाड़ा

हरदोई।विद्युत विभाग के अधिकारियों व बेसिल कंपनी की मिलीभगत से हर माह सरकार को करीब 14 लाख रुपये का चूना लगाया जा रहा है। यह कारनामा बेसिल के सुपरवाइजर द्वारा करीब 111 फर्जी संविदाकर्मी दर्शाकर किया जा रहा है। विद्युत विभाग में श्रमिकों की आपूर्ति के लिए ब्राडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट इंडिया लि. (बेसिल) को अनुबंधित किया गया है। मामले की शिकायत के बाद एक बड़े फर्जीवाड़े की बात सामने आ रही है।
     जिले के बेहड़ा रसूलपुर निवासी कुलदीप कुमार ने उच्चाधिकारियों को प्रेषित शिकायत में आरोप लगाया है कि बेसिल के सुपरवाइजर विनय शुक्ला उर्फ रमलू द्वारा विद्युत वितरण खंड द्वितीय के अंतर्गत आने वाले 19 पावर हाउस में कुल 357 कुशल व अकुशल संविदाकर्मी दर्शाएं गए हैं, जिनमें 246 लोग ही धरातल पर काम करते हैं, जबकि 111 संविदाकर्मी फर्जी हैं। ये फर्जी संविदाकर्मी बेसिल के सुपरवाइजर स्वयं व उनके सगे भाई, रिश्तेदार, खास, मित्र व परिवार के लोग हैं, जो अपना व्यवसाय करते हैं। जबकि विद्युत विभाग में बिना काम किये ही उनका हर माह का वेतन निकाला जा रहा है।
     साक्ष्यों के साथ प्रेषित पत्र में बताया गया है कि विद्युत वितरण खंड द्वितीय के सांडी रोड ग्रामीण पावर हाउस में कुल 13 संविदा कर्मी फर्जी नियुक्त हैं, इसी तरहं सांडी रोड शहर पावर हाउस में 11, आरटीओ पावर हाउस में कुल 08, मन्नापुरवा में 06, कराही में 08, सुरसा में 07, बावन में 09, ऐजा में 09, तत्योरा में 11, हरिहरपुर में 03, कोयलबाग कॉलोनी में 03, इटौली में 03, गुरगुज्जा पावर हाउस में 04, चरौली पावर हाउस में 03, बेहटागोकुल में 04, सिटी पावर हाउस में03, आशानगर में 02 सहित कुल 111 संविदाकर्मी फर्जी रूप से दर्ज हैं।
     इन संविदाकर्मियों की बैंक पासबुक व एटीएम कार्ड बेसिल के सुपरवाइजर विनय उर्फ रमलू शुक्ला व उनके भाई धीरज उर्फ बबलू शुक्ला अपने पास रखते हैं, जिससे हर माह उक्त फर्जी श्रमिकों का वेतन हड़प लिया जाता है। इस फर्जीवाड़े में विद्युत विभाग के अधिकारियों की संलिप्तता से इंकार नही किया जा सकता, क्योंकि वेतन का भुगतान उपस्थिति शीट के आधार पर होता है, जिस पर जेई व एसडीओ के भी हस्ताक्षर मौजूद रहते हैं। इससे स्पष्ट है कि उक्त फर्जीवाड़े में विद्युत विभाग के अधिकारियों का भी हिस्सा होता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव