यह हाल है कोरोना कहर का...... एक मां का दर्द देखिए:सुबह छोटे बेटे की मौत, शाम को बड़े की चली गई जान


  
मेरठ में नेहरू नगर निवासी अरुण सक्सेना, सचिन सक्सेना दो भाइयों की बुधवार को मौत हो गई। दोनों भाई पिछले एक सप्ताह से कोरोना संक्रमित थे। बड़े भाई अरुण का एलएलआरएम व छोटे भाई सचिन का नोएडा के अस्पताल में ‌ इलाज चल रहा था। बुधवार सुबह छोटे भाई सचिन की तबियत अचानक बिगड़ी और अस्पताल में ही मौत हो गई। छोटे भाई की मौत की मनहूस खबर सुनकर अरुण ने भी अस्पताल में ही दम तोड़ दिया।

बड़ा सहन नहीं कर पाया छोटे भाई की मौत का सदमा
अरुण सक्सेना का बेटा मयंक पिछले सात दिनों से पिता, चाचा की देखभाल कर रहा था। मयंक ने बताया कि सुबह ही ब्रजघाट पर चाचा का अंतिम संस्कार किया था। तब तक पापा को चाचा के गुजरने की खबर नहीं दी थी कि कहीं उनकी तबियत और न बिगड़ जाए। ब्रजघाट से लौटकर जब पापा को फोन पर चाचा की मौत के बारे में बताया तो वही हुआ जिसका डर था। पापा ये सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाए। अस्पताल में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। सुबह चाचा, शाम को पिता की मौत ऐसा दिन भगवान किसी को न दिखाए।
वृद्ध मां कर रही बेटों का इंतज़ार
अरुण, सचिन की बुजुर्ग मां सावित्री देवी अभी तक हकीकत से अंजान है कि उसके जिगर के टुकड़े अब इस दुनिया से अलविदा कह चुके हैं। पोते मयंक ने बूढ़ी दादी को अभी तक यह हकीकत नहीं बताई। मयंक को डर है कि जैसे पापा, चाचा के जाने का सदमा नहीं सह सके, ‌अब कहीं दादी भी न चली जाएं। इस डर से मयंक खामोश है। मयंक ने कहा कि दादी को कैसे बताऊं कि अपने जिन बेटों के बारे में वो बार-बार पूछ रही है अब वो अस्पताल क्या दुनिया में ही वापस नहीं आएंगे। मयंक ने दिल पर पत्थर रखकर अपने गम को छिपाया हुआ है।

कोई मेरे पिता का अंतिम संस्कार करा दो
पिता की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन ने मयंक से पिता का शव ले जाने को कहा। मयंक ने पड़ोसियों से लेकर रिश्तेदारों, दोस्तों से मदद मांगी। अफसरों को फोन किए कि कोई आकर मेरे पिता का अंतिम संस्कार करा दे। उनके शव को कांधा दे दे लेकिन महामारी के भयावह काल में मदद को कोई हाथ न बढ़ा। अरुण को कांधा भी नसीब न हो सका। मजबूरन मयंक ने शव मोर्चरी में रखवा दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक