बंगाल हिंसा के विरोध में भाजपा लखनऊ महानगर कार्यकर्ताओं का विरोध प्रदर्शन

 


लखनऊ
5 मई बंगाल हिंसा के विरोध में आज लखनऊ में भाजपा महानगर इकाई द्वारा पश्चिम बंगाल में हो रही हिंसा पर विरोध दर्ज किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी के निर्देशानुसार प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह जी के आवाहन पर लखनऊ महानगर के सभी मंडलों में अलग-अलग स्थान पर जनप्रतिनिधियों, मंडल अध्यक्षों, पदाधिकारियों व युवा कार्यकर्ताओं ने सरकार द्वारा जारी कोविड गाइडलाइंस को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ धरना देकर बंगाल में  भाजपा कार्यकर्ताओं पर किये जा रहे अत्याचार का विरोध प्रदर्शन किया।


प्रदर्शन के दौरान महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा ने कहा कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के उपरान्त तृणमूल कांग्रेस की हिंसा व तांडव के जो वीभत्स दृश्य सामने आ रहे हैं जिसमें भाजपा पार्टी के कार्यकर्ताओं की हत्या एवं जानलेवा हमले हुए हैं वह काफी चिंताजनक, डरावने और दुर्भाग्यपूर्ण हैं। मैं इसकी कड़े शब्दों में निन्दा एवं विरोध करता हूं। लखनऊ महानगर के सभी कार्यकर्ता एकजुट होकर बंगाल के कार्यकर्ताओं के साथ खड़े हैं।इस कोरोना महामारी के संकट की घड़ी में जहां मानव समाज एक दूसरे की जान बचाने के लिये कार्यरत हैं. वहीं पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के उपद्रवी तत्व लगातार भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर आक्रमण और हिंसा का काला अध्याय तृणमूल कांग्रेस के द्वारा लिखा जा रहा है जो कि बिल्कुल अमानवीय और ना काबिले बर्दाश्त है।

 विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से मध्य मंडल मे दया निधान पार्क पर महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा के नेतृत्व में मंडल अध्यक्ष आनंद पांडे व पदाधिकारी अन्य स्थानों पर मंडल अध्यक्ष विशाल गुप्ता, रामशरण सिंह, राकेश पांडे, महेंद्र राजपूत, अजय सोनी ,अरविंद मिश्रा, कमल पांडे ,पीयूष दीवान, हिमांशु राज सोनकर ,जितेंद्र राजपूत द्वारा अपने-अपने मंडलों में कार्यकर्ताओं के साथ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को अपना विरोध संदेश दिया। सभी कार्यकर्ताओं के हाथ में  "तृणमूल कांग्रेस की क्या पहचान, हिंसा लूट कत्लेआम" व  "ममता दीदी शर्म करो, हिंसा आगजनी का खेल बंद करो" लिखित तख्ती मौजूद थीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक