इण्डियन नेशनल ओलम्पियाड में सी.एम.एस. छात्रा ने 40वीं आॅल इण्डिया रैंक अर्जित की


 लखनऊ,
18 मई। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की कक्षा-12 की छात्रा रवीजा चन्देल ने इण्डियन नेशनल केमिस्ट्री ओलम्पियाड में अपने शानदार प्रदर्शन से लखनऊ का नाम सारे देश में गौरवान्वित किया है। यह प्रतियोगिता होमी भाभा सेन्टर फाॅर साइंस एजुकेशन, मुम्बई के तत्वावधान में आयोजित हुई, जिसमें देश भर के विभिन्न प्रतिष्ठित विद्यालयों से एक लाख से अधिक छात्रों ने प्रतिभाग किया। इस प्रतिष्ठित ओलम्पियाड के द्वितीय चरण में देश भर से मात्र 60 छात्र सफल हुए हैं, जिनमें रवीजा ने 40वीं आॅल इण्डिया रैंक अर्जित कर अपने ज्ञान-विज्ञान का परचम लहराया है। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने रवीजा की उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उसके अत्यन्त उज्जवल भविष्य की कामना की है। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि इस अत्यन्त कठिन एवं प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में शानदार उपलब्धि हासिल कर विद्यालय की इस होनहार छात्रा ने सी.एम.एस. की अनूठी शिक्षा पद्धति का परचम लहराकर सी.एम.एस. का नाम रोशन किया है। इस प्रतिष्ठित ओलम्पियाड की मेरिट को विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त है। श्री शर्मा ने बताया कि इस प्रतियोगिता में अन्तिम रूप से चयनित कुछ छात्रों को अन्तर्राष्ट्रीय केमिस्ट्री ओलम्पियाड में देश का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिलेगा।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की इस अत्यन्त प्रतिभाशाली छात्रा ने अभी हाल ही में मार्च माह में सम्पन्न हुई जे.ई.ई. मेन्स परीक्षा में 99.6 पर्सेन्टाइल अर्जित कर टाॅप किया है। इसके अलावा, भारत सरकार की किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना स्काॅलरशिप हेतु भी चयनित हुई है। श्री शर्मा ने बताया कि वैज्ञानिक युग के महत्व को स्वीकारते हुए सी.एम.एस. अपने छात्रों का दृष्टिकोण वैज्ञानिक एवं विश्वव्यापी बनाने के उद्देश्य से जोरदार प्रयास कर रहा है जिसकी बदौलत सी.एम.एस. छात्र विभिन्न राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में नये नये कीर्तिमान गढ़ रहे हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक