प्रत्येक वर्ग के लिए आरक्षित पदों की संख्या क्रमावली के अनुसार व्यवस्थित ग्राम पंचायतों में आवंटित की जायेगी

 


हरदोई।
जिला पंचायत राज अधिकारी गिरीश चन्द्र ने अवगत कराया है कि शासनके निर्देशों के क्रम में जनपद की 1306 ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधान, 19 क्षेत्र पंचायत प्रमुख, 16732 ग्राम पंचायत वार्ड, 1808 क्षेत्र पंचायत वार्ड एवं 72 जिला पंचायत के वार्ड के आरक्षण/आवंटन की प्रक्रिया पूर्ण करते हुए 02 मार्च 2021 को अनन्तिम प्रकाशन किया गया है।

     उन्होने बताया है कि प्रमुख तथा प्रधानों के पदो के आवंटन की प्रक्रिया के तहत विकास खण्ड के लिए आरक्षित पदों को विभिन्न ग्राम पंचायतों को अनूसूचित जातियों एवं पिछड़े वर्गो की जनसंख्या के प्रतिशत के आधार पर अवरोही क्रम में व्यवस्थित किया जायेगा और प्रत्येक वर्ग के लिए आरक्षित पदों की संख्या क्रमावली के अनुसार व्यवस्थित ग्राम पंचायतों में आवंटित की जायेगी परन्तु जहां तक हो सके पूर्ववर्ती सामान्य निर्वाचन 1995, 2000, 2005, 2010 एवं 2015 में अनुसूचित जाति या पिछड़े वर्गो को आवंटित ग्राम पंचायतों के सामान्य निर्वाचन 2021 में अनुसूचित जातियां या पिछड़े वर्ग आवंटित नहीं की जायेगी तथा स्त्रियों के लिए आरक्षित पदों का आवंटन करने हेतु ग्राम पंचायत की सामान्य जाति की जनसंख्या का अवरोही क्रम तैयार कर किया जायेगा, अवरोही क्रम में अधिक सामान्य जनसंख्या वाली ग्राम पंचायतें स्त्रियों को आवंटित की जायेगी परन्तु पूर्ववर्ती सामान्य निर्वाचन 1995, 2000, 2005, 2010 एवं 2015 में स्त्रियों को आवंटित ग्राम पंचायतें निर्वाचन 2021 में स्त्रियों को आवंटित नहीं की जायेगी।
      जिला पंचायत राज अधिकारी ने कहा है कि विकास खण्ड की समस्त ग्राम पंचायतों को अनुसूचित जाति की आबादी के प्रतिशत के आधार पर अवरोही क्रम में लगाते हुए सर्वप्रथम पद का आवंटन उन ग्राम पंचायतों में किया जायेगा जो पूर्ववर्ती निर्वाचनों में कभी भी अनुसूचित जाति श्रेणी में आवंटित नहीं रहीं है, सर्व प्रथम आवंटित हुई ग्राम पंचायतों में ऊपर से अनुमन्य संख्या में ग्राम पंचायतें अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित कर दी जायेगी, इस प्रकार आवंटन के पश्चात अगर समस्त ग्राम पंचायतें एक बार इस श्रेणी में आरक्षित हो गयी है और अनुसूचित जाति के ग्राम प्रधान पदों का आवंटन शेष है तो उसके लिए खण्ड की ग्राम पंचायतों को अनुसूचित जाति की जनसंख्या के प्रतिशत के आधार पर अवरोही क्रम में उन ग्राम पंचायतों को आरक्षित किया जायेगा जो वर्ष 2015 में अनुसूचित जाति श्रेणी में आरक्षित नहीं रही हों।
     उन्होने बताया कि विकास खण्ड में पिछड़ी जाति के ग्राम पंचायत प्रधान पदो के आवंटन के लिए अनुसूचित जाति हेतु आरक्षित ग्राम पंचायतों को हटाते हुए शेष बची ग्राम पंचायतों को पिछड़ी जाति की आबादी के प्रतिशत के आधार पर अवरोही क्रम में लगाते हुए सर्व प्रथम पदों का आवंटन उन ग्राम पंचायतों में किया जायेगा, जो पूर्ववर्ती निर्वाचनों में कभी पिछड़ी जाति श्रेणी में आवंटित नहीं रहीं है और सर्वप्रथम आवंटित ग्राम पंचायतों में ऊपर से एक तिहाई से अन्यून संख्या में पिछड़ी जाति महिला पदो के लिए आरक्षित कर दी जायेगीं, इस प्रकार आवंटन के पश्चात अगर समस्त ग्राम पंचायतें एक बार इस श्रेणी में आरक्षित हो गयी हैं और विकास खण्ड में पिछड़ी जाति के ग्राम प्रधान के पदों का आवंटन शेष है तो उसके लिए शेष बची हुई ग्राम पंचायतों को पिछड़ी जाति की जनसंख्या के प्रतिशत के आधार पर अवरोही क्रम में उन ग्राम पंचायतों का आरक्षित किया जायेगा जो कि वर्ष 2015 में पिछड़ी जाति श्रेणी में आरक्षित नहीं रहीं है।
जिला पंचायत राज अधिकारी ने कहा है कि स्त्री के लिए आरक्षित ग्राम पंचायत प्रधान पदों का आवंटन विकास खण्ड की ग्राम पंचायतें जो अनुसूचित जाति व पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित हो चुकीं है उनको हटाते हुए जो शेष है उन्हें सामान्य वर्ग की जनसंख्या के आधार पर अवरोही क्रम में लगाया जायेगा तथा सर्व प्रथम स्त्री पद का आवंटन उन ग्राम पंचायतों में किया जायेगा जो पूर्ववर्ती निर्वाचनों में कभी स्त्री श्रेणी में नहीं रहीं है, इस प्रकार आवंटन के पश्चात अगर समस्त ग्राम पंचायतें एक बार इस श्रेणी में आरक्षित हो गयी है और विकास खण्ड में स्त्री श्रेणी के ग्राम प्रधान पदों का आवंटन शेष है तो उसके लिए विकास खण्ड में शेष ग्राम पंचायतों को सामान्य वर्ग की जनसंख्या के आधार पर अवरोही क्रम में उन ग्राम पंचायतों को अब आरक्षित किया जायेगा जो वर्ष 2015 में स्त्री श्रेणी में आरक्षित नहीं रहीं है तथा किसी क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत में अनुसूचित जाति या अन्य पिछड़ा वर्ग में दो व्यक्ति से कम होने पर आवंटन नहीं किया जायेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक