बंगाल चुनाव से पहले ,दिनेश त्रिवेदी BJP में शामिल हुए

 


पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी को एक ही दिन में कई झटके लगे हैं। TMC के पूर्व राज्यसभा सांसद और ममता के करीबी दिनेश त्रिवेदी ने शनिवार को भाजपा का दामन थाम लिया। त्रिवेदी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा की मौजूदगी में शामिल हुए। इस दौरान केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे।

तृणमूल कांग्रेस से BJP में जाने वाले विधायकों में एक नाम और जुड़ सकता है। साउथ 24 परगना की सतगछिया सीट से विधायक सोनाली गुहा ने भाजपा में जाने के संकेत दिए हैं। वे ममता की करीबी हैं और 4 बार से विधायक हैं। इस बार उन्हें टिकट नहीं मिला है।

TMC के नेता दिनेश बजाज ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने BJP में जाने का ऐलान किया है। बजाज को भी ममता ने टिकट नहीं दिया है। इस बीच BJP ने चुनाव प्रचार के लिए एक गीत जारी किया है। इसके बोल 'गोरबो सोनार बांग्ला' हैं।

त्रिवेदी ने 12 फरवरी को दिया था इस्तीफा
त्रिवेदी को ममता का बेहद करीबी नेता माना जाता है। उन्होंने 12 फरवरी को बजट सत्र के दौरान खुद के इस्तीफे का ऐलान कर दिया था। वह पिछले 2 महीने से तृणमूल कांग्रेस से दूरी बनाकर चल रहे थे। TMC ने त्रिवेदी के फैसले को पार्टी और जनता के साथ विश्वासघात बताया था।

'खेला' खेलते-खेलते ममता अपने आदर्श भूलीं : त्रिवेदी
भाजपा में शामिल होने के बाद उन्होंने कहा कि बंगाल की जनता ने तृणमूल कांग्रेस को नकार दिया है। राज्य की जनता तरक्की चाहती है, वो हिंसा और भ्रष्टाचार नहीं चाहती। राजनीति कोई 'खेला' नहीं होता, ये एक गंभीर चीज है। खेलते-खेलते वो (ममता बनर्जी) आदर्श भूल गई हैं।

त्रिवेदी सही व्यक्ति, गलत पार्टी में थे : नड्‌डा
वहीं, नड्‌डा ने कहा कि जब मैं त्रिवेदी की बात करता था, तो मैं हमेशा कहता था कि वे एक अच्छे व्यक्ति हैं, लेकिन गलत पार्टी में हैं। इसे वे खुद भी महसूस करते थे। अब सही व्यक्ति सही पार्टी में है, जहां हम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में उनका उपयोग देश की सेवा में कर सकेंगे

ममता सरकार की जमकर आलोचना की थी
इस्तीफा देने के बाद त्रिवेदी ने कहा था कि बंगाल में बहुत ज्यादा हिंसा और भ्रष्टाचार है। मैं बंगाल से TMC सांसद हूं। वहां TMC का शासन है, लेकिन अगर मैं कुछ नहीं कर सकता तो मुझे यहां (राज्यसभा) क्यों बैठना चाहिए? यह विचार आते ही मुझे लगा कि यहां बैठने की कोई वजह नहीं है। या तो मैं चीजों को सही करता हूं या कोशिश करता हूं। मैंने पूरी कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुआ।

सौरव गांगुली और मिथुन चक्रवर्ती भी शामिल हो सकते हैं
विधानसभा चुनाव से पहले 7 मार्च बंगाल की राजनीति के लिए बड़ी तारीख हो सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता के ऐतिहासिक परेड ग्राउंड में बड़ी रैली करने वाले हैं। इस रैली में BCCI प्रेसीडेंट सौरव गांगुली का भाजपा में शामिल होना तय है। पार्टी के भरोसेमंद सूत्रों ने भास्कर से बातचीत में इसकी पुष्टि की है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, इस दिन सौरव के साथ-साथ मिथुन चक्रवर्ती, प्रोसेनजीत समेत बंगाल की कई नामी हस्तियां भाजपा में शामिल होंगी। सूत्रों ने बताया कि गांगुली को भाजपा में लाने की पटकथा दिसंबर 2019 में ही लिखी जा चुकी थी। तब के पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने PM मोदी की सहमति के बाद इसकी तैयारी शुरू कर दी थी।

TMC छोड़कर भाजपा में शामिल होने का सिलसिला जारी
पिछले कई महीनों से TMC नेताओं का भाजपा में शामिल होने का सिलसिला जारी है। इसकी शुरुआत पिछले साल 19 दिसंबर को ममता सरकार में मंत्री रहे शुभेंदु अधिकारी से हुई थी। तब शुभेंदु के साथ सांसद सुनील मंडल, पूर्व सांसद दशरथ तिर्की और 10 विधायकों ने भाजपा ज्वॉइन की थी। इनमें 5 विधायक तृणमूल के ही थे।

इसके बाद 21 जनवरी को शांतिपुर से विधायक अरिंदम भट्‌टाचार्य और 30 जनवरी को पूर्व मंत्री राजीब बनर्जी, विधायक बैशाली डालमिया और प्रबीर घोषाल भाजपा में शामिल हो गए थे। वहीं, डायमंड हार्बर से विधायक दीपक हल्दर ने 2 फरवरी और पांडेश्वर से विधायक जितेंद्र तिवारी ने 2 मार्च को भाजपा का दामन थाम लिया था।

बंगाल में 8 फेज में चुनाव
पश्चिम बंगाल में इस बार 8 फेज में वोटिंग होगी। 294 सीटों वाली विधानसभा के लिए वोटिंग 27 मार्च (30 सीट), 1 अप्रैल (30 सीट), 6 अप्रैल (31 सीट), 10 अप्रैल (44 सीट), 17 अप्रैल (45 सीट), 22 अप्रैल (43 सीट), 26 अप्रैल (36 सीट), 29 अप्रैल (35 सीट) को होनी है। काउंटिंग 2 मई को की जाएगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक