महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक समारोहों पर रोक


 महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सोमवार से राज्य में राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक समारोहों पर रोक लगा दी है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना फिर से बढ़ रहा है। उनके मुताबिक, आठ से 15 दिनों में पता चलेगा कि क्या यह एक और लहर है। देश के कई राज्यों में कोरोना वायरस फिर तेजी से पांव पसारने लगा है। पिछले कुछ दिनों से केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते दैनिक आंकड़ों ने सरकार को चिंता में डाल दिया है। इन राज्यों के चलते पिछले 22 दिनों में शनिवार को पहली बार करीब 14 हजार नए मामले सामने आए और 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि केरल में तो रोजाना सबसे ज्यादा मामले आ ही रहे थे, पिछले हफ्ते से महाराष्ट्र में भी ज्यादा मामले मिलने लगे हैं। इसी तरह छत्तीसगढ़, पंजाब और मध्य प्रदेश में भी मामले बढ़े हैं। पिछले चौबीस घंटों के दौरान महाराष्ट्र में छह हजार से अधिक और केरल में करीब पांच हजार नए मामले मिले हैं। इस दौरान छत्तीसगढ़ में 259, पंजाब में 383 और मध्य प्रदेश में 297 मामले सामने आए हैं। मध्य प्रदेश में 13 फरवरी के बाद से ही नए मामलों में वृद्धि हो रही है। मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में संक्रमण से किसी की मौत नहीं हुई। इनमें तेलंगाना, हरियाणा, जम्मू कश्मीर, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, त्रिपुरा, असम, चंडीगढ़, लक्षद्वीप, मणिपुर, मेघालय, लद्दाख, मिजोरम, सिक्किम, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, अंडमान निकोबार द्वीपसमूह, दादरा और नगर हवेली तथा दमन और दीव शामिल हैं।

मंत्रालय ने कहा कि इन राज्यों में बढ़ते मामलों का असर देश के आंकड़ों पर पड़ा है और सुबह आठ बजे तक मिले आंकड़ों के मुताबिक तीन हफ्ते बाद पहली बार एक दिन में 13,993 नए केस मिले हैं और 101 लोगों की मौत हुई है, जिनमें महाराष्ट्र में 44, केरल में 15 और पंजाब में आठ मौतें शामिल हैं। कुल संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ नौ लाख 77 हजार को पार कर गया है। इनमें से एक करोड़ छह लाख 78 हजार से अधिक मरीज ठीक हो चुके हैं और 1,56,212 लोगों की जान भी जा चुकी है। मरीजों के उबरने की दर बढ़कर 97.27 फीसद हो गई और मृत्युदर घटकर 1.42 फीसद पर आ गई है। मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक सक्रिय मामलों यानी उपचाराधीन मरीजों की संख्या 1.5 लाख से नीचे बनी हुई है। वर्तमान में 1,43,127 सक्रिय मामले हैं, जो कुल मामलों का 1.27 प्रतिशत है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक