युवक ने टीम पर लगाये खानापूर्ति करने के आरोप

 पाली(हरदोई)।मेड़बन्दी को लेकर हाईकोर्ट के दिये गए आदेश के बाद भी लेखपाल व कानूनगो की तीन सदस्यीय टीम उसका अनुपालन करने की बजाए सिर्फ खानापूर्ति कर चलती बनी। जबकि कोर्ट द्वारा अपने आदेश में स्पष्ट किया गया था कि पीड़ित के खेत के चारों ओर पिलर लगवाने के अलावा सुस्पष्ट मेडबंदी भी की जाए। लेकिन पीड़ित का आरोप हैं कि तीन सदस्यीय टीम विपक्षी के प्रभाव में आकर  सिर्फ खानापूर्ति की । 

    पाली नगर के मोहल्ला पटियानीव के पीड़ित मुकेश कुमार व अन्य का खेत गाटा संख्या 340 रकवा 0.9384 हेक्टेयर अतरजी आराजी में स्थित हैं, इस खेत पर कुछ लोग कब्जा किये थे, थाक बंदी का वाद दायर करने के बाद एसडीएम शाहाबाद कोर्ट ने पीड़ित के पक्ष में आदेश दिया। लेकिन खेत के सीमांकन हेतु जब पीड़ित मुकेश कुमार ने पुनः एसड़ीएम कोर्ट से आदेश कराया तो विपक्षी लोगों ने अड़ंगा डाल दिया। विपक्षियों के धनबल व राजनैतिक प्रभाव के चलते हल्का लेखपाल भी सीमांकन करने से कतराने लगा। 
     पीड़ित मुकेश ने हाईकोर्ट में सीमांकन कराए जाने हेतु एक रिट दायर की, जिस पर हाईकोर्ट ने 1 फरवरी को शाहाबाद एसडीएम को आदेश दिया कि उक्त खेत के चारो ओर पिलर लगवाकर सुस्पष्ट सीमांकन कराया जाए। इसके लिए एसडीएम ने लेखपाल व कानूनगो की एक तीन सदस्यीय टीम गठित कर दी। विगत 15 फरवरी को तीन सदस्यीय टीम पुलिस बल के साथ मौके पर सीमांकन हेतु पहुंची । लेकिन पीड़ित मुकेश कुमार का आरोप हैं कि लेखपाल सतीश, रोहित व कानूनगो सूर्यपाल की टीम ने विपक्षियों के प्रभाव में आकर सिर्फ एक ओर की कुछ मीटर सीमांकन ही किया, जबकि खेत के चारो ओर सीमांकन कर पिलर भी लगवाना था लेकिन टीम द्वारा ऐसा नहीं किया गया। 
     पीड़ित की माने तो विपक्षी की खेत के कुछ हिस्से पर फसल खड़ी हैं, नियमानुसार फसल को जुतवाकर टीम को सीमांकन कराना था । न ही टीम ने पिलर लगवाए। पीड़ित का आरोप हैं कि इस कार्यवाई के दौरान टीम ने कुछ स्थानीय ग्रामीणों के हस्ताक्षर करा लिए और की गई खानापूर्ति का वीडियो बना लिया, ताकि अफसरों व कोर्ट को गुमराह कर सके। पीड़ित ने पुनः सीमांकन कराए जाने हेतु कोर्ट से गुहार लगाई हैं ताकि उसकी कृषि भूमि उसे मिल सके ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव